महामृत्युंजय मंत्र जाप /अनुष्‍ठान :

                    महामृत्युंजय मंत्र के वर्णो (अक्षरों) का अर्थ
महामृत्युंघजय मंत्र के वर्ण पद वाक्यक चरण आधी ऋचा और सम्पुतर्ण ऋचा-इन छ: अंगों के अलग अलग अभिप्राय हैं।
                   ओम त्र्यंबकम् मंत्र के 33 अक्षर हैं जो महर्षि वशिष्ठर के अनुसार 33 देवताआं के घोतक हैं। उन तैंतीस देवताओं में 8 वसु 11 रुद्र और 12 आदित्यठ 1 प्रजापति तथा 1 षटकार हैं।

               इन तैंतीस देवताओं की सम्पुर्ण शक्तियाँ महामृत्युंजय मंत्र से निहीत होती है जिससे महा महामृत्युंजय का पाठ करने वाला प्राणी दीर्घायु तो प्राप्त करता ही हैं । साथ ही वह नीरोग, ऐश्व‍र्य युक्ता धनवान भी होता है । महामृत्युंरजय का पाठ करने वाला प्राणी हर दृष्टि से सुखी एवम समृध्दिशाली होता है । भगवान शिव की अमृतमययी कृपा उस निरन्तंर बरसती रहती है।





























|| महामृत्युंजय मंत्र ||
||  ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मा मृतात् ||

महामृत्‍युंजय मंत्र का अर्थ
समस्‍त संसार के पालनहार तीन नेत्रो वाले शिव की हम अराधना करते है विश्‍व मे सुरभि फैलाने वाले भगवान शिव मृत्‍यु न कि मोक्ष से हमे मुक्ति दिलाएं ।




Copyright 2009-2010 TrimbakeshwarInfo.com. All rights reserved.
Developed by Webtricks Developments.
होम | संपर्क | प्रवास | अभिप्राय | मराठी | English | फोटो गॅलरी | Developers